स्पोर्ट्सबुक इंडिया

स्पोर्ट्सबुक इंडिया

time:2021-10-28 00:16:09 इस साल 7.7% होगा औसत इंक्रीमेंट, जानिए किस सेक्‍टर में सबसे ज्‍यादा बढ़ेगी सैलरी Views:4591

एयू फुटबॉल स्कोर स्पोर्ट्सबुक इंडिया betway असली है या नहीं,fun88 राजस्व,lovebet 5 फ्री बेट,lovebet छवियां,lovebet थाई फेसबुक,3 रील स्लॉट ऑनलाइन,बैकरेट आर्केड गेम डाउनलोड,बैकारेट पैक किल नेट,पांच खेलों में सर्वश्रेष्ठ,बुकमेकर वेबसाइट,कैसीनो एल आइल एडम,शतरंज भी,क्रिकेट बुक माय शो पुणे,क्रिकेट यॉर्कर किंग,यूरोपीय कप सट्टेबाजी,फुटबॉल सट्टेबाजी ऑनलाइन,जी स्पोर्ट्स वसुंधरा,खुश किसान जावा गेम,मैं पोकर रेक,जैकेट ब्लाउज डिजाइन,ला लॉटरी जीतने की संख्या,लाइव डीलर ब्लैकजैक फ्री,लॉटरी लगाना है,एम कैसीनो नौकरियां,ऑनलाइन कैसीनो और पोकर,ऑनलाइन गेम परीक्षक नौकरियां,ऑनलाइन स्लॉट मलेशिया,पोकर 101,पोकर कार्य उपकरण,रूले संख्या भविष्यवक्ता,रमी डोमेन कस्टमर केयर नंबर,रश माल्ट्ज फिशिंग शो,स्लॉट हॉल कैसीनो,स्पोर्ट्स पैंटी,तीन पत्ती गोल्ड फ्री चिप्स,नवीनतम फ़ुटबॉल लाभ विधि,आभासी क्रिकेट फिट्ज़रोविया,वाइल्डज़ मुफ़्त,lottery लाटरी संबाद,करीना भगवान,क्रिकेट शायरी हिंदी,छोटे स्पोर्ट्स,पासा का अर्थ,बरसात राज कपूर नरगिस,रमी वीडियो,स्टेटस न्यू 2020, .इस साल 7.7% होगा औसत इंक्रीमेंट, जानिए किस सेक्‍टर में सबसे ज्‍यादा बढ़ेगी सैलरी

एयॉन के अनुसार, 2019 में भारत में कंपनियों ने औसतन 9.3 फीसदी की वेतन बढ़ोतरी की थी.
इस साल कर्मचारियों के वेतन में औसतन 7.7 फीसदी की बढ़ोतरी हो सकती है. ज्‍यादातर कंपनियों ने 2021 में इंक्रीमेंट के लिए कहा है. सैलरी पर एयॉन के 25वें सालाना सर्वे में यह बात कही गई है.

इस सर्वे में देश की 1,200 कंपनियों को शामिल किया गया. इनमें से 1,000 ने इस साल वेतनवृद्धि के लिए कहा है. यह अलग बात है कि वे अब भी कोरोना के झटके से उबर रही हैं. 2020 में सख्‍त लॉकडाउन के बावजूद भारत ब्रिक्‍स देशों में सबसे ज्‍यादा इंक्रीमेंट के अनुमान जताने वालों में है.

इसे भी पढ़ें : सैलरी के इन कंपोनेंट को समझ लें तो टैक्‍स बचत में होगी आसानी

एयॉन के अनुसार, 2019 में भारत में कंपनियों ने औसतन 9.3 फीसदी की वेतन बढ़ोतरी की थी. सर्वे में कहा गया है कि जहां सैलरी इंक्रीमेंट मजबूत रिकवरी को दर्शाता है. वहीं, नए वेज कोड पासा पलटने वाले साबित हो सकते हैं. सर्वे में 20 से ज्‍यादा इंडस्‍ट्रीज की 1,200 कंपनियों की प्रतिक्रिया ली गई.

भारत में एयॉन के परफॉर्मेंस और रिवॉर्ड बिजनेस के सीईओ व पार्टनर नितिन सेठी ने कहा, ''हमें उम्‍मीद है कि 2021 के लिए इंक्रीमेंट के समीकरण लंबी अवधि के लिए बनेंगे. इनसे आने वाले बदलावों की नींव पड़ेगी.''

इसे भी पढ़ें : इन तरीकों से आप घर बैठे कमा सकते हैं पैसा

उन्‍होंने बताया कि उम्‍मीद है कि संस्‍थान साल की दूसरी छमाही में अपने कम्‍पनसेशन बजट में बदलाव करेंगे. लेबर कोड के वित्‍तीय असर का वास्‍तविक अनुमान लग जाने के बाद ऐसा किया जाएगा.

सर्वे के अनुसार, सबसे ज्‍यादा इंक्रीमेंट करने वाले सेक्‍टर पिछले साल वाले ही होंगे. इनमें इनफॉर्मेशन टेक्‍नोलॉजी (आईटी), आईटीईएस (आईटी इनेबल्‍ड सर्विसेज), लाइफ साइंसेज, ई-कॉमर्स और फास्‍ट मूविंग कंज्‍यूमर गुड्स (एफएमसीजी) शामिल हैं.

एयॉन में पाटर्नर (ह्यूमन कैपिटल बिजनेस) रूपंक चौधरी ने कहा, ''यहां ध्‍यान देने वाली बात यह है कि जिन सेक्‍टरों पर कोविड-19 का बुरा असर पड़ा था, वे भी 5-6 फीसदी की रेंज में बढ़त दर्ज कर रहे हैं. इनमें रिटेल, हॉस्पिटैलिटी और रियल एस्‍टेट शामिल हैं.''

पैसे कमाने, बचाने और बढ़ाने के साथ निवेश के मौकों के बारे में जानकारी पाने के लिए हमारे फेसबुक पेज पर जाएं. फेसबुक पेज पर जाने के लिए यहां क्‍ल‍िक करें

टॉपिक

वेतनवृद्ध‍िइंक्रीमेंटवेतन बढ़ोतरीएयॉनसर्वे

ETPrime stories of the day

After a robust rally, pharma stocks feel under the weather. But do they make a case for value buy?
Recent hit

After a robust rally, pharma stocks feel under the weather. But do they make a case for value buy?

9 mins read
Can Hero Electric keep going as Ather, Ola rev up e-scooters? One puzzle Naveen Munjal is solving.
Electric vehicles

Can Hero Electric keep going as Ather, Ola rev up e-scooters? One puzzle Naveen Munjal is solving.

11 mins read
Survival of the richest: why investment in conservation is horribly skewed
Environment

Survival of the richest: why investment in conservation is horribly skewed

6 mins read

पिछले 10 साल में ओएनजीसी अपने उत्पादन में कोई बड़ी बढ़ोतरी करने में नाकामयाब रही है.कोरोना की महामारी के चलते कई लोगों की नौकरी छूट गई है. कई लोगों की सैलरी घट गई है. कइयों के रोजगार ठप हो गए हैं. नौकरियों के मौकों में बड़ी कमी आई है. नई जॉब के विकल्‍प बेहद सीमित हैं. ऐसे में यह समय अपने कम्‍फर्ट जोन से निकलकर घर में कमाई के रास्‍ते खोजने का है. इसकी शुरुआत आप खुद से यह पूछ कर सकते हैं कि आप क्‍या कर सकते हैं? कैसे कर सकते हैं? कहां कर सकते हैं? कितना कमा सकते हैं? हम आपको घर बैठे कमाई के कुछ विकल्प बता रहे हैं.अगर आपके पास ये स्किल्‍स हैं तो नौकरी की नहीं है कमी

साल में कम से कम एक बार निवेश की समीक्षा जरूर करें और उसे दोबारा बैलेंस करें.अपने साथ की प्रतिद्वंद्वी कंपनियों के मुकाबले डॉ रेड्डीज लैब का वैल्यूएशन कम है. साथ ही बैलेंसशीट भी मजबूत है.टीसीएस ने छह महीनों में दूसरी बढ़ाई सैलरी, जानिए क्या है वजह?

साल में कम से कम एक निवेश की समीक्षा जरूर करें और दोबारा संतुलन बनाएं. अपने लिए पर्याप्‍त लाइफ इंश्‍योरेंस खरीदें.डिजिटल इकनॉमी में नए टैलेंट की जरूरत होगी. आइए, यहां टॉप रिक्रूटमेंट फर्मों से उन स्किल्‍स के बारे में जानते हैं जो सबसे ज्‍यादा डिमांड में हैं.आईटी और रिटेल सेक्‍टर में मार्च में हुईंं ज्‍यादा भर्तियां : रिपोर्ट

पूरा पाठ विस्तारित करें
संबंधित लेख
फुटबॉल स्कोर नेट

बेटी की शिक्षा और शादी के लिए माता-पिता पैसा जोड़ पाएं, इस मकसद के साथ यह स्‍कीम लॉन्‍च की गई थी.

करीना गेम

डेट म्‍यूचुअल फंडों की कई कैटेगरी हैं. मनी मार्केट म्‍यूचुअल फंड उनमें से एक है. ये स्‍कीमें उन लोगों के लिए मुफीद होती हैं जो अपने निवेश के साथ बहुत कम जोखिम लेना चाहते हैं. चूंकि ये स्‍कीमें छोटी अवधि के इंस्‍ट्रूमेंट में पैसा लगाती हैं. इसलिए इन पर अर्थव्‍यवस्‍था में ब्‍याज दर में होने वाले बदलाव का ज्‍यादा असर नहीं पड़ता है. मनी मार्केट इंस्‍ट्रूमेंट के साथ कम जोखिम होने के कारण भी इनमें निवेश अपेक्षाकृत सुरक्षित होता है. आइए, यहां इनके बारे में कुछ जरूरी बातों को जानते हैं.

ई क्रिकेट संगरोध कप

फ्रैंकलिन टेंपलटन म्यूचुअल फंड ने शुक्रवार को कहा कि उसकी छह योजनाओं को अप्रैल 2020 में बंद होने के बाद से 15,776 करोड़ रुपये मिले हैं.

शतरंज 14 चाल नियम

बेहतर और सरल रिटर्न के लिए निवेशक साधारण प्रोडक्ट्स का रुख कर रहे हैं. सरकार ने अप्रैल-जून तिमाही में ब्याज दरों में कोई बदलाव नहीं किया है.

प्रतिष्ठित शतरंज वेबसाइट

महामारी से पहले की तुलना में मजदूरी 450-500 रुपये से बढ़कर 550-600 रुपये प्रति दिन हो गई है. वहीं, मजदूरों की उपलब्‍धता 70-75 फीसदी घटी है.

संबंधित जानकारी
गरम जानकारी