जोकर पिक्चर

Publishing time:2021-10-28 00:56:45

रम्मीकल्चर विजेता जोकर पिक्चर 188bet पुनः दावा एक्वी,ek Patti खोज,lovebet 20/1,lovebet मुक्त दांव,lovebet रोलैंड गैरोस,lovebetघ संपर्क,बैकारेट 4 लीटर प्रेशर कुकर,बैकरेट सीखना,भारत में सर्वश्रेष्ठ पांच एसी,भा फुटबॉल जुड़नार,कैसीनो पूरी फिल्म,चैंपियंस लीग फ़ुटबॉल बड़े नाम गोलकीपर,क्रिकेट 5 लाइनें,मुंबई में क्रिकेट स्टेडियम,तेलुगू में esports का अर्थ होता है,फुटबॉल 400 रुपये,फुटबॉल x,एच फुटबॉल स्थिति विशेष टीमें,लाठी कैसे खेलें,क्या लाइव मनोरंजन विश्वसनीय है?,जंगल रम्मी.कॉम ऐप,लाइव कैसीनो मैरीलैंड होटल,लॉटरी इमोजी,लूडो मनी अर्निंग ऐप,आधिकारिक फुटबॉल सट्टेबाजी नेटवर्क,ऑनलाइन खेल सोने की खान,ऑनलाइन रियल मनी रूले,परिधीय सट्टेबाजी,फिल्मों से पोकर उद्धरण,रूले सबसे अच्छी रणनीति,रम्मी 2021 डाउनलोड,रम्मीकल्चर कानूनी,स्लॉट365,स्पोर्ट्स जीके पीडीएफ,भाप राज्य,सबसे अच्छी फुटबॉल सट्टेबाजी कंपनी,यूईएफए यूरोपीय कप का सीधा प्रसारण,सबसे अच्छा baccarat प्रचार और अच्छी प्रतिष्ठा कौन सी है,21 बजे zi,ऑनलाइन पैसे बनाएं online,क्रिकेट गेम्स,गोवा शिपयार्ड लिमिटेड भर्ती २०२०,तीन पत्ती विन,बरसात अमावस कब की है,भारतीय रमी,स्टेटस ऐप डाउनलोड, .कंस्‍ट्रक्‍शन सेक्‍टर में दिहाड़ी मजदूरी बढ़ी, यह है वजह

http://img95.699pic.com/photo/40037/1647.jpg_wh300.jpg?67016

कंस्‍ट्रक्‍शन सेक्‍टर में दिहाड़ी मजदूरी बढ़ी, यह है वजह

कंस्‍ट्रक्‍शन सेक्‍टर में न्‍यूनतम मजदूरी में 15-20 फीसदी का इजाफा हुआ है.
मुंबई : पिछले कुछ महीनों में कंस्‍ट्रक्‍शन सेक्‍टर में काम करने वाले वर्कर्स की न्‍यूनतम दिहाड़ी मजदूरी बढ़ी है. ये रियल एस्‍टेट, इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर, सीमेंट, स्‍टील, सड़क एवं हाईवे और शहरी विकास परियोजनाओं में काम करते हैं. मजदूरी में बढ़ोतरी की वजह लेबरों की कमी है. कंपनियों ने अपने पुराने प्रोजेक्‍टों को पूरा करने के लिए काम की रफ्तार बढ़ाई है.

कंस्‍ट्रक्‍शन सेक्‍टर में न्‍यूनतम मजदूरी में 15-20 फीसदी का इजाफा हुआ है. इस सेक्‍टर में करीब 5 करोड़ लोग काम करते हैं. मानव संसाधन प्रबंधन फर्म बेटरप्‍लेस के अनुमान के अनुसार, महामारी से पहले की तुलना में मजदूरी 450-500 रुपये से बढ़कर 550-600 रुपये प्रति दिन हो गई है. वहीं, मजदूरों की उपलब्‍धता 70-75 फीसदी घटी है.

इसे भी पढ़ें : कोरोना के दौर में सैलरी बढ़ाने के लिए कैसे करें बातचीत?

मजदूरों को सबसे ज्‍यादा रोजगार कंस्‍ट्रक्‍शन सेक्‍टर में मिलता है. यह सेक्‍टर काफी कुछ असंगठित है. ज्‍यादातर वर्कर्स दिहाड़ी मजदूरी पर काम करते हैं. बेटरप्‍लेस के सीओओ सौरभ टंडन ने कहा कि लेबर की किल्‍लत के चलते कंस्‍ट्रक्‍शन सेक्‍टर में मजदूरी बढ़ी है. कंपन‍ियां तेजी से अपनी लंबित परियोजनाओं को पूरा करना चाहती हैं.

टॉप एग्‍जीक्‍यूटिव्‍ज के अनुसार, कुशल कामगारों की भारी किल्‍लत है. कारण है कि महामारी के बाद बड़ी संख्‍या में मजदूर अपने-अपने घरों से वापस नहीं लौटे हैं. रियल एस्‍टेट डेवलपर हीरानंदानी ग्रुप के एमडी निरंजन हीरानंदानी ने कहा कि हम बाहर से कुशल कारीगरों को लाने की कोशिश कर रहे हैं. ये ज्‍यादा मजदूरी की मांग करते हैं. इससे कंस्‍ट्रक्‍शन सेक्‍टर में औसत मजदूरी बढ़ी है. कुशल श्रमिकों की कमी सिर्फ रियल एस्‍टेट की समस्‍या नहीं है, बल्कि यह दिक्‍कत हर सेक्‍टर की है. बहुत कम लोगों के पास काम की कुशलता होती है.

इसे भी पढ़ें : सिर्फ 10% कर्मचारी ऑफिस लौटे : रिपोर्ट

इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर प्रोजेक्‍टों के बिल्‍डर केईसी इंटरनेशनल के सीईओ विमल केजरीवाल ने कहा कि फिटर और कारपेंटर जैसे कुशल कामगारों की मजदूरी 10-20 फीसदी बढ़ गई है. काम ज्‍यादा है. लंबित परियोजनाओं को पूरा करने का दबाव है. सभी साइटों पर पूरी क्षमता के साथ काम हो रहा है.

इंडस्‍ट्री के जानकार कहते हैं कि मध्‍यम और छोटे संस्‍थान जिनमें लॉकडाउन की शुरुआत में वर्कर्स को रोक पाने की क्षमता नहीं थी, उन्‍हें लेबरों को मंगाने में ज्‍यादा खर्च करना पड़ रहा है. कंस्‍ट्रक्‍शन सेक्‍टर की बड़ी कंपनियों ने खाने-पीने और रहने की व्‍यवस्‍था उपलब्‍ध कराकर अपने वर्कर्स को बनाए रखा.

हिंदी में पर्सनल फाइनेंस और शेयर बाजार के नियमित अपडेट्स के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज. इस पेज को लाइक करने के लिए यहां क्लिक करें.

टॉपिक

द‍िहाड़ी मजदूरीमजदूरी में इजाफान्‍यूनतम द‍िहाड़ीकंस्‍ट्रक्‍शन सेक्‍टरलेबरों की किल्‍लत

ETPrime stories of the day

As Christmas nears, China’s biggest shipper says there’s no end in sight for supply-chain crisis
Logistics

As Christmas nears, China’s biggest shipper says there’s no end in sight for supply-chain crisis

4 mins read
China’s hypersonic missile test may be targeted at the US and the West. But India should be worried.
R&D

China’s hypersonic missile test may be targeted at the US and the West. But India should be worried.

9 mins read
As drones take off under fresh rules, insuring their flight still has a host of teething troubles
Insurance

As drones take off under fresh rules, insuring their flight still has a host of teething troubles

11 mins read
कंस्‍ट्रक्‍शन सेक्‍टर में दिहाड़ी मजदूरी बढ़ी, यह है वजह

पिछले साल से अब तक बड़े उतार-चढ़ाव हुए हैं. लोगों ने कोरोना की महामारी के कहर को देखा और अब जिंदगी को पटरी पर लौटते देख रहे हैं. शायद ही यह दौर भुलाए भूलेगा. हालांकि, इससे कई सबक भी मिले हैं. ये करियर में आगे बढ़ने में मदद कर सकते हैं. आइए, यहां उनके बारे में जानते हैं.नयी दिल्ली, 27 अक्टूबर (भाषा) मारुति सुजुकी इंडिया 2025 के बाद ही देश में इलेक्ट्रिक वाहन (ईवी) उतारेगी। कंपनी का कहना है कि इस समय ऐसे वाहनों की मांग कम है और जब भी वह इलेक्ट्रिक वाहन क्षेत्र में उतरेगी तो हर महीने लगभग 10,000 इकाइयां बेचना चाहेगी। कंपनी के चेयरमैन आर सी भार्गव ने बुधवार को यह बात कही। कंपनी के दूसरी तिमाही की नतीजों पर एक वर्चुअल सम्मेलन को संबोधित करते हुए भार्गव ने कहा कि मौजूदा परिस्थितियों में ईवी प्रणाली में बहुत सी चीजें जैसे बैटरी, चार्जिंग ढांचा औरFestival Special Trains: उत्तर रेलवे ने चलाईं 7 और त्योहार स्पेशल रेलगाड़ियां, चेक कर लें रूट और टाइम टेबल

नयी दिल्ली, 27 अक्टूबर (भाषा) अडाणी पोर्ट्स एंड स्पेशल इकनॉमिक जोन (एपीएसईजेड) ने अगले साल जून तक म्यामां में अपने निवेश से बाहर निकलने की घोषणा की है। एपीएसईजेड देश की सबसे बड़ी बंदरगाह विकास कंपनी है। यह विभिन्न क्षेत्रों में कार्यरत अडाणी समूह की इकाई है।अडाणी पोर्ट्स एंड स्पेशल इकनॉमिक जोन ने दूसरी तिमाही के नतीजों के बाद कहा, ‘‘कंपनी के निदेशक मंडल ने म्यामां में निवेश से बाहर निकलने की योजना पर सक्रियता से काम करने का फैसला किया है। यह कार्य मार्च-जून, 2022 तक पूरा हो सकता है।’’ एपीएसईजेड ने इस साल अगस्त में कहा थानयी दिल्ली, 27 अक्टूबर (भाषा) आईआईएफएल फाइनेंस का शुद्ध लाभ चालू वित्त वर्ष 2021-22 की जुलाई-सितंबर तिमाही में 37 प्रतिशत बढ़कर 291.60 करोड़ रुपये रहा। कंपनी ने बुधवार को एक बयान में कहा कि इससे पिछले वित्त वर्ष 2020-21 की दूसरी तिमाही में उसे 212.70 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ हुआ था। आईआईएफएल फाइनेंस की कुल आय चालू वित्त वर्ष की जुलाई-सितंबर तिमाही में 11 प्रतिशत बढ़कर 969.30 करोड़ रुपये रही। एक साल पहले इसी तिमाही में यह 874.50 करोड़ रुपये थी। आलोच्य तिमाही में कंपनी की प्रबंधन अधीन परिसंपत्तियां (एयूएम) आठ प्रतिशत बढ़करटीसीएस ने छह महीनों में दूसरी बढ़ाई सैलरी, जानिए क्या है वजह?

पिछले साल से अब तक बड़े उतार-चढ़ाव हुए हैं. लोगों ने कोरोना की महामारी के कहर को देखा और अब जिंदगी को पटरी पर लौटते देख रहे हैं. शायद ही यह दौर भुलाए भूलेगा. हालांकि, इससे कई सबक भी मिले हैं. ये करियर में आगे बढ़ने में मदद कर सकते हैं. आइए, यहां उनके बारे में जानते हैं.नयी दिल्ली, 27 अक्टूबर (भाषा) कर्मचारियों से जुड़ी सेवाएं देने वाली बेटर प्लेस ने बुधवार को कहा कि उसने ओएलएक्स पीपल और वाह जॉब्स का अधिग्रहण किया है। हालांकि, कंपनी ने सौदे की राशि का खुलासा नहीं किया।बेटर प्लेस ने एक बयान में कहा, ‘‘कंपनी 40 करोड़ से अधिक कल-कारखानों और अन्य जगहों पर मेहनत का काम करने वाले (ब्लू कॉलर कामगार) तथा होटल, रेस्तरां, अस्पतालों, कैब और सुरक्षा सेवाओं आदि से जुड़े कर्मचारियों (ग्रे कॉलर कामगार) को समर्थन देने के मिशन पर है। कंपनी इस अधिग्रहण के साथ अब नियोक्ताओं को हर तरह की प्रौद्योगिकी युक्त समाधान की पेशकश करभारत में स्नैपचैट के प्रयोगकर्ताओं की संख्या 10 करोड़ के पार

स्रोत: Nanfang Daily Online    Editor in charge: hit


खुश किसान पीएनजी
स्पोर्ट्सबुक समझाया
ऑनलाइन पोकर विरेनडेन से मिले
क्या है बैकारेट खेलने का राज
आर/पोकर
जुआ अजीब और डबल सट्टेबाजी कौशल
lovebetो'यिनलारी
बरसात पर कविता
जैकपॉट ड्रेस
स्लॉट मशीन हैक ऐप
ऑनलाइन पोकर डेटाबेस
lovebet go2hr
lovebet 6 बॉल आयरिश लॉटरी
स्टेटस आई
10cric एफिलिएट प्रोग्राम
रम्मी खेल विविधताएं
फ़ुटबॉल इंस्टेंट ऑड्स इंडेक्स
स्टॉक लॉटरी
पोकर किंग मालिक
रम्मी-0 खेल के नियम
व्हाट्सएप ग्रुप सट्टेबाजी
fun88 भारत
लूडो ज़ौकी
lovebet समाचार
लूडो डाउनलोडिंग
स्लॉट का हिंदी अर्थ
लॉटरी 2 तारीख